Mumpa

Blog

Thoughts, Story, Ideas
  • कहीं आपके बेबी प्रोडक्ट्स में पैराबेन नमक हानिकारक प्रेज़रवेटिव तो नहीं है?

क्या आप  जानतें  है  कि  वो  भीनी  –  भीनी  खुशबू  वाला  बेबी  लोशन, जो  आप अपने  बच्चे  के  त्वचा पे  बड़े  शौख़  से  लगाते  है  वो आपके  बच्चे  की  सेहत  के  लिए  हानिकारक हो सकता है? बाज़ार  में  उपलब्ध  अधिकांश  बेबी  क्रीम,  पाउडर,  साबुन, शैम्पू   इत्यादि   में  पैराबेन  नाम  का  प्रेज़रवेटिव पाया  जाता  है.  पैराबेन्स  एक  तरह  का  केमिकल  प्रेज़रवेटिव  है, जो  इन  उत्पादों  में  बैक्टीरियल  ग्रोथ   की   रोक  थाम  करता  है  जिससे  इन  उत्पादों  की  शेल्फ  लाइफ  बढ़  जाती  है.

तो  अगर  यह  प्रेज़रवेटिव  इन  प्रोडक्ट्स  में  बैक्टीरियल  ग्रोथ  रोकता  है  तो  हमें  इसके  बारे  में चिंता   क्यो करनी  चाहिए?  इसलिए,  क्योकि  पैराबेन्स   हमारे   अंतःस्त्रावी   प्रणाली   यानी   हमारे एंडोक्राइन   सिस्टम   के स्वाभाविक काम करने  की  क्षमता  में  व्यवधान  डालता  है. पैराबेन  हमारे  शरीर में एस्ट्रोजन नामक फीमेल हॉर्मोन  की  नक़ल  करता  है  जिससे  बच्चे  में  हार्मोनल  इम्बैलेंस हो  सकता  है.  शरीर   में   एस्ट्रोजन  के  उच्च  स्तर  के  कुछ  प्रकार  के कैंसर  का  खतरा  भी  बढ़  सकता  है.

हलाकि  पैराबेन्स  का  प्रभाव  प्राकृतिक  एस्ट्रोजेन  की  तुलना  में  एक  हज़ार  गुना  से  ज़्यादा कमज़ोर  है,  यह  बच्चों  की  एंडोक्राइन  प्रणाली  और  स्वास्थय  के  लिए  घातक  हो  सकता  है. यह बच्चों  में  विकास  संबंधी  विकार  उत्पन्न कर  सकता  है.

पैराबेन्स  के  कई  प्रकार  है  और  यह  हमारे  और  हमारे  बच्चों  के  कई  कास्मेटिक  और  टॉयलेटरज़ में  विभिन्न  नामों  से  पाया  जाता  है, जैसे:

मिथाइलपैराबेन

इथाइलपैराबेन

परोपयिलपैराबेन

ब्यूटाइलपैराबेन

आइसोब्यूटाइलपैराबेन

आइसोपरोपयिलपैराबेन

ये पैराबेन्स, अलग अलग माइक्रो ऑर्गैनिस्मस की रोक थाम करते है, इसलिए  एक  ही  प्रोडक्ट में  एक  साथ  कई  पैराबेन्स  हो  सकते  हैं.

यूरोप  के  कई  देशों  में  तीन  साल  से  कम  उम्र  के  बच्चों  के  प्रोडक्ट्स  में  पैराबेन्स  के  इस्तेमाल  पर प्रतिबन्ध  है. डेनमार्क  में  परोपयिलपराबेन  और  ब्यूटाइलपरबेन  का  इस्तेमाल  पूर्णतः प्रतिबंधित  है  और  ईयू   देशों  में  इन पैराबेन्स  का  इस्तेमाल  नैपी  एरिया  में  प्रयोग  में  लाने  वाले प्रोडक्ट्स, (जैसे  कि  डाइपर  रैश  क्रीम)  में  प्रतिबंधित  है. इसके  साथ – साथ ईयू  में  बाकि  सारे पैराबेन  के  जायज़  अधिकतम  स्तर  को  २०१४  में  पहले  से  घटा  कर कम  कर  दिया
  गया  था.

हमारे  देश  के  सौंदर्य  प्रसाधन  इंडस्ट्री  पे रेगुलेटरी  नियंत्रण  बहुत  कमज़ोर  है. इसलिए  अभिभावक सतर्क रहें. अगली  बार  जब  आप  बाज़ार  में  अपने  बच्चे  के  लिए  शैम्पू  और लोशन  खरीदने निकलें  तो  प्रोडक्ट  में  इस्तेमाल  कियेगए  इंग्रेडिएंट्स  को  ध्यान  से  पड़ें. आप  नेचुरल  या आर्गेनिक  प्रोडक्ट्स  का  चयन  भी  कर  सकतें  है. ऑनलाइन  शॉपिंग  में  बहुत  से  नेचुरल
 और  आर्गेनिक  प्रोडक्ट्स  के  विकल्प  उपलब्ध  हैं.

कैवीयत एम्टौर   के  सिद्धांत  को  कभी  न  भूलें,  जो कहता  है  कि  खरीददारी  से  पहले,  खरीदार  ही माल  की  गुणवत्ता  और  उपयुक्तता  की  जांच  करने  के  लिए  ज़िम्मेदार  है!

सजग  रहें,  अपने  और  अपने  बच्चे  के  लिए  सेफ  प्रोडक्ट्स  का  इस्तेमाल  करें.

सुगंध सिन्हा

0 Comments

  • User

Your comment is submitted successfully